शुक्रवार, 14 नवंबर 2008

गज़ल 14/11/2008

जब-जब मैं सच कहता हूं।
सब को लगता कड़वा हूं।

वो मेरी टांग की ताक में है,
कि कब मैं ऊपर उठता हूं।

जो भी नोक पर आते हैं,
बस उनको ही चुभता हूं।

उम्र में जमा सा बढ़ता हूं,
जीवन से नफी सा घटता हूं।

तू जो मुझ पर मरती है,
इसीलिये तो जीता हूं।

वो नाखून दिखाने लगते हैं,
घावों की बात जो कहता हूं।
तूफान खड़ा हो जाता है,
जब तिनका-तिनका जुड़ता हूं।

15 टिप्‍पणियां:

Dr. Amar Jyoti ने कहा…

'जब-जब मैं…'
सुन्दर।

"अर्श" ने कहा…

उम्र में जमा सा बढ़ता हूं,
जीवन से नफी सा घटता हूं।

bahot khub likha hai shandar....jari rahe ..

प्रकाश बादल ने कहा…

शुक्रिया डॉ0 अमर ज्योति जी आपके स्नेह के लिये।

प्रकाश बादल ने कहा…

अर्ष भाई शुक्रिया।

mehek ने कहा…

उम्र में जमा सा बढ़ता हूं,
जीवन से नफी सा घटता हूं।


वो नाखून दिखाने लगते हैं,
घावों की बात जो कहता हूं।
waah bahut khub ,ye do sher to lajawab rahe

प्रकाश बादल ने कहा…

शुक्रिया महक ज़ी आपका!

Jimmy ने कहा…

bouth he aacha post ji

Shyari is here plz visit karna ji

http://www.discobhangra.com/shayari/romantic-shayri/

बेनामी ने कहा…

last line is ver good

Ajay

लवली कुमारी / Lovely kumari ने कहा…

सुंदर गजल ..और लिखिए .स्नेह और सहयोग का बहुत धन्यवाद

chandrabhan bhardwaj ने कहा…

Bhai Prakash Badalji,
Aapki gazal padhi,katthya aapka thik hai lekin shilp to kamjore hai hi. men ise sudharne ki koshish kar raha hoon; dekhen.
jab jab men sach kahata hoon
sabko lagata kadava hoon
meri taang ki tak men wo
kab men upar uthata hoon
meri nok pe ate jo
bas unko hi chubhata hoon
umra jama si badhati hai
jeevan lekin ghatata hai
tu jo mujh per marati hai
is karan men jeeta hoon
wo nakhoon dikhata hai
jab ghavon ki kahata hoon
aata hai toofan agar
tinka tinka judata hoon
Is gazal ki bahar banati hai (SS SS SSS) aur ab ye poori tarh se bahar men ho gayee hai. Ve hi shabd hain kewal unke stthan badalane se bahar ban jati hai.
Agar gazal likh rahe hain to bahar men likhane ka prayas kare. Aap bahut achchha aur sunder likh rahe hain.Meri shubhkamnayen.
chandrabhanbhardwaj.4@gmail.com

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत उम्दा गज़ल है प्रकाश भाई.

तूफान खड़ा हो जाता है,
जब तिनका-तिनका जुड़ता हूं।

बहुत खूब कहा!!

प्रकाश बादल ने कहा…

आदरणीय चंद्रप्रभा जी,

आपके स्नेह के लिये आभार
आपने जो मेहनत की है उससे यह स्पष्ट है कि आप गज़ल लेखकों को प्रोत्साहन देते है।
मेरी कोशिश रहेगी कि मैं जो लिखूं मीटर में आ जाए। स्नेह बरकरार रखें

प्रकाश बादल ने कहा…

भाई समीर लाल जी,

आपके निरंतर प्रोत्साहन से बेहद खुश हूं। आपकी प्रतिक्रिया इसी तरह जारी रहेगी, मुझे पूरा विश्वास है।

प्रकाश बादल ने कहा…

अजय जी,

प्रोत्साहन के लिये शुक्रिया।

'अदा' ने कहा…

उम्र में जमा सा बढ़ता हूं,
जीवन से नफी सा घटता हूं।
bahut hi gahri baat kahi hai aapne.

तूफान खड़ा हो जाता है,
जब तिनका-तिनका जुड़ता हूं।
lajwaab khayal...bahut umda

sabhi sher kuch na kuch maayne liye hue hain..aur bahut acche hain..
badhai aapko..

रफ़्तार Related Posts with Thumbnails
Bookmark and Share