शनिवार, 21 नवंबर 2009

बिलासपुर में नन्हें फूल बिखेर रहे कविता की ख़ुशबू




बच्चों को कविता लेखन के प्रोत्साहन हेतु एक कार्यशाला का आयोजन


50 बच्चे ले रहे भाग

बेटियों की प्रतिभागिता अधिक

इन दिनों हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर में ज़िला भाषाधिकारी डॉ0 अनिता के आग्रह पर मैं एक वर्कशॉप में हिस्सा लेने आया हूँ। वर्कशॉप में आने का निमंत्रण इसी लिए स्वीकार किया क्योंकि मुझे जवाहर नवोदय विद्यालय में स्कूली बच्चों के साथ समय बिताना था और इन बच्चों को Hopes and challenges of youth विषय पर केंद्रित कविताएँ लिखने के लिए प्रेरित करना था। डॉ0 अनिता एक जागरूक महिला अधिकारी तो हैं ही साथ ही उनका आग्रह टालना मेरे लिए इसलिये भी मुश्किल था क्योंकि उनका मैं बहुत आदर करता हूँ। इसके साथ-साथ बिलासपुर आने की लालसा इसलिए भी रहती है कि मेरे परम मित्र और बड़े भाई अरुण डोगरा के साथ कुछ समय बिताने का अवसर मिल जाता है। सुमन भाभी (अरुण भाई की पत्नि) के हाथों का लज़ीज़ खाना और उनका स्नेह भला हमेशा कहाँ मिलता है। इसी लालच में जब मैंने बिलासपुर के कोठीपुरा में स्थित नवोदय विद्यालय के बच्चों ने जो मेरा स्वागत किया, उससे मेरी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा। बच्चों के बीच आकर मुझे अपना स्कूली जीवन याद आ गया और मैं उसे इन बच्चों के साथ जीने भी लगा। मैंने पाया कि जवाहर नवोदय विद्यालय के बच्चों में भविष्य के अनेक अच्छे कवि छुपे हैं। इन बच्चों को पहले से ही स्थानीय वरिष्ठ कवि विद्वान और कवि डॉ0 लेख राम और वरिष्ठ कवि एवम संगीत के अध्यापक रहे श्री अनूप सिंह मस्ताना ने बहुत कुछ निखार दिया था। बस इन बच्चों में कमी है तो बस इस बात की कि इन्होंने कविता का ज्ञान तो प्राप्त किया ही है लेकिन कविताएं पढ़ी नहीं है। तो अब मैं उन्हें कुछ अच्छे कवियों की कविताएँ पढ़वाऊँगा और उसके बात इन बच्चों की लेखनी के सुधार को देखूँगा। इस कार्यशाला में लिखी गई कविताओं में से ही चुन कर नवोदय विद्यालय एक कविता संग्रह को प्रकाशित करने जा रहा है जिससे इन नन्हें फूलों की ख़ुशबू की महक यानी इनकी कविताएँ अपनी अलग ही छाप छोड़ जाएगी। इसी विचार को आपसे साझा कर रहा हूँ कार्यशाला में एक हफ्ता रहूँगा और मेरा प्रयास रहेगा कि इन बच्चों की कविताओं को आपसे साझा करूँ और आपका प्रोत्साहन इन बच्चों को मिले ताकि इनकी लेखनी में सुधार आए और इनकी रचनाएँ किसी दिशा की तरफ इंगित करती नज़र आएँ। इन्हीं बच्चों में से एक छात्रा की कविता मुझे पहले दिन सबसे अच्छी लगी क्योंकि इस छात्रा की कविता में कहीं कहीं सृजनात्मकता औरों से अधिक है, यद्पि इन बच्चों की कविताओं को और तराशे जाने की अभी आवश्य्कता है। इस छात्रा की कविता देखें और अपने विचार मुझसे साझा भी करें। कार्यशाला की गतिविधियों से आपको अवगत करवाता रहूँगा और आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा रहेगी।
नवोदय विद्यालय की छात्रा वनीता जिसकी कविता शीघ्र पोस्ट करने वाला हूँ।

कार्यशाला की कुछ झलकियां:
कार्यशाला में बच्चों के बीच मैं भी बच्चा हो गया


कार्यशाला में नवोदय विद्यालय बिलासपुर (कोठीपुरा) की प्रधानाचार्य अनूपा ठाकुर्



33 टिप्‍पणियां:

Nirmla Kapila ने कहा…

प्रकाश जी कविता तो मुझे कहीं दिखाई नहीं दी? आपका और डा़ अनिता जी का प्रयास बहुत सराहनीय है। बहुत बहुत शुभकामनायें । फिर कविता पढने आती हूँ।अप पोस्ट करिये। धन्यवाद्

हिमांशु । Himanshu ने कहा…

प्रयास बेहतर ह । कविता कहाँ है ?

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

हिमाचल की बाते करके तो आपने मुझे मेरे घर ही लौटा दिया

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर लेकिन दो कमियां पहली आप की कविता की ओर दुसरी इतने चित्र लेकिन अनीता जी का एक भी नही, बाकी सब बहुत सुंदर, चित्र भी अति अपना पन लिये. धन्यवाद

"अर्श" ने कहा…

ब्लाग जगत में इतने दिन बाद दिखाई दिए आभार कहूँ या शुक्रिया
बस यही कहूँगा खुश हूँ.... सच में आप बच्चे के साथ बच्चे ही दिख
रहे हैं... बढ़िया कार्यक्रम ....


अर्श

Kishore Choudhary ने कहा…

आज अरसे बाद हिंदी में ग़ज़ल के लिए मेरे मूड सा मूड रखने वाला शायर मिला है. कार्यशाला के बारे में और ब्लॉग के सन्दर्भ में क्या कहूं ख़ास पढ़ नहीं पाया हूँ दो तीन दिन में लौटता हूँ. वैसे यकीन सा है कि यहाँ सब अपने जैसा और सीखने के लिए है.

प्रकाश बादल ने कहा…

किशोर भाई आपका आभार

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सराहनीय प्रयासहै......aaj kal aap likhte nahi hain kya baat hai ... vyast hain kya ... hamaari shubhkamnaaye aap ke saath hain ...

आशुतोष दुबे 'सादिक' ने कहा…

बढ़िया कार्यक्रम .सब बहुत सुंदर!
हिन्दीकुंज

boletobindas ने कहा…

wah bhai wah ki abaat hai.......gudri me laal chupe hote hai...chaliye kuch haad tak hi sahi yeh laal to dunia ke sammne aayegai...wah biradar wah ..... lage rahna

boletobindas ने कहा…

wah bhai wah ki abaat hai.......gudri me laal chupe hote hai...chaliye kuch haad tak hi sahi yeh laal to dunia ke sammne aayegai...wah biradar wah ..... lage rahna

JHAROKHA ने कहा…

प्रकाश जी,
बहुत ही सुन्दर प्रयस है अपका।बच्चों की सृजनात्मकता को बढ़ाने की अच्छी पहल ।शुभकामनायें।
पूनम

Vikas rana ने कहा…

prakash bhayee

kya batayen kitni khushi huee... sabse badi khushi ki aap himachal se ho aur ye gahzalo ki vaadi si lag raha hia apna pradesh.. bahut salos e dhoodnta tha koe mile jo apni mitti ka ho.. uske geet sunu bhi use apne sunau bhi........ aapke blog mai bahut kuch mila .... bahut acha laga

aapne jis chatra ki kavita post ki hai... bahut pasand aayee umee dhai uske sukhan mai barkat hogi .. aapka blog araam se poora padhunga .

aapke jabaab ke intzaar mai

vikas rana 'janumanu'
Janumanu.blog.co.in

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

सहमत हूं
मेरी बिटिया किसी से कम नहीं

psingh ने कहा…

सराहनीय प्रयास
बहुत बहुत आभार

Puneet Sahalot ने कहा…

hello bhaiya...
kavita ka wait kar raha hu...
jadli post kariyega... :)

अनुपम अग्रवाल ने कहा…

इतने दिनों बाद भी कविता नहीं है ..

क्या हुआ तेरा वादा..??

बेनामी ने कहा…

nanhi see shuruaat ke liye ashirwaad chahta hoon bhai sahab.....

http://chaurahekichamak.blogspot.com/

N Ram ने कहा…

kuyaa khoob....

apne ghar ki yaad aa gai.....

प्रकाश बादल ने कहा…

वाह निक राम जी बहुत ही खूबसूरत और प्रभावी लग रहे हैं।

Nikka ram ने कहा…

hum to yahi kahonga bhai sab ki aap ka hi partaap hai mahaaraj...........

shama ने कहा…

Bahut achha prayas hai...anek shubhkamnayen!

रौशन जसवाल विक्षिप्त ने कहा…

दुनिया

रौशन जसवाल विक्षिप्त ने कहा…

नमस्कार कैसे हो मजे में या मौजे में? ना फोन ना ब्लोग पर कोई नई जानकारी क्या बात है? कभी पर भी आये ऒर मित्रों का पंजिकरण करवा दें! होली मुबारक!

Anuja ने कहा…

Abhi tak to workshop ki magazine nahin nikli to kya aap kavita bhi nahin bhej sakte?

नरेश सिह राठौङ ने कहा…

दादा हेडर में टाईटल तो डालो |

Parul ने कहा…

ek umda koshish...shubhkamnayen!

बेनामी ने कहा…

nice post

kshama ने कहा…

सूरज को कब रोक पाईं सरहदें,
है बराबर सी धूप बँटी तेरे मेरे बीच
Bahut dinon baad nazar aaye aap blog pe par kya gazab ka likha hai!

Udan Tashtari ने कहा…

हम तो अभी आपकी नई गज़ल पढ़ रहे थे, एकाएक हट गई.

Jeewan Jyoti Sharma ने कहा…

Nice to see the workshop through this web page. Prakash ji thanx a lot.

तरुण भारतीय ने कहा…

बहुत अच्छी पोस्ट लिखी है .......धन्यवाद

बेनामी ने कहा…

प्रयास बहुत सराहनीय है। बहुत बहुत शुभकामनायें ।

रफ़्तार Related Posts with Thumbnails
Bookmark and Share