सोमवार, 23 मार्च 2009

क्या ये मीटर में हैं!

देखिये रदीफ और काफिया! ये ज़रूर बताएं कि ये मीटर में हैं या नहीं। ये संभव और वैभव है मेरे जुड़वाँ बेटे।

35 टिप्‍पणियां:

दर्पण साह 'दर्शन' ने कहा…

Badal ji,
Meter ka to pata nahi ,
haan par apki ghazal, aap, Sambhav, Vaibhav.....
....Charron Ek mukimaal ghazal ke Sher hain !!

...Bahut Khoob !!

Asha karta hoon ki ye bhi bade hoke apki tarah naam roshan kareinge.

inko meri taraf se Pyaar dular aur ashirvaad....

प्रकाश बादल ने कहा…

शुक्रिया दर्पण भाई।

mehek ने कहा…

wow twins,bahut bahut pyare bachhe hai,dher sara pyar aur ashirwad sahit,hamare pure parivar ki aur se,bade nayab kohinoor se hai,duahai dono ko khuda khub sari khushi de.

Mired Mirage ने कहा…

संभव और वैभव ! बहुत प्यारे बच्चे, बहुत प्यारे नाम ! उनके भविष्य के लिए शुभ कामनाएँ।
घुघूती बासूती

संगीता पुरी ने कहा…

सचमुच बडे प्‍यारे बच्‍चे हैं ... उन्‍हें मेरा स्‍नेहाशीष दें।

राज भाटिय़ा ने कहा…

प्रकाश जी आप के दोनो बच्चे बहुत ही प्यारे है , हमारा दोनो का बहुत बहुत प्यार, खुब पढे लिखे, ओर खुब तरक्की करे.
आप का धन्यवाद

अनूप शुक्ल ने कहा…

शानदार! ये मीटर में नहीं किलोमीटर में नहीं प्रकाशवर्ष में नापे जायेंगे। इनकी कीर्ति दिगदिगान्तर में फ़ैले!

anup sethi ने कहा…

अरे वाह! बहुत दिन बाद देखा. बड़े हो गए हैं. बहुत बहुत प्‍यार.

नीरज गोस्वामी ने कहा…

मीटर में? आप भी क्या बात करते हैं प्रकाश जी...इस से बेहतर तो शेर हो ही नहीं सकता...दोनों मिसरे एक से बढ़ कर एक...वाह...वा...इश्वर इन्हें लम्बी उम्र और ढेर सारी खुशियाँ दे....
नीरज

"अर्श" ने कहा…

PRAKASH JI AAPKE YE DONO SHER... WAAH KYA KAHANE... DONO KE DONO KAMAAL KE .. BHALA ISASE BHI KOI BADHIYA SHER HO SAKTA HAI KYA....

SAMBHAV AUR BAIBHAV KO BAHOT BAHOT PYAR AUR AASHIRVAAD ...

ARSH

विनय ने कहा…

अरे वह दोस्त की बेटियों वाली फोटो तो लगाते है!


---
चाँद, बादल और शाम
गुलाबी कोंपलें

SWAPN ने कहा…

badal ji inko to kudrat ne hi meter men banaya hai. sher bhale na hon, hum bhale na hon, par ye to meter men hain. mahender ji aapki jaankari ke liye mere bhi do bete mohit, aur mudit twins hain jo 23 years ke hain.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बादल जी
ये दोनों तो मीटर में ही लगते हैं......
हे..हे हे...
बहुत प्यारे बच्छे हैं, भगवान् लम्बी उम्र दे

नरेश सिह राठौङ ने कहा…

बादल जी, यह गजल तो मुझे भी समझ मे आ गयी है । अब तक शायद नही समझ पा रहा था । यह रचना आपकी अन्य रचनाओं मे सर्वश्रेष्ठ है । बच्चो से मिलाने के लिये आभार ।

रविकांत पाण्डेय ने कहा…

बहुत सुंदर गजल!! दोनो मिसरे खूब जम रहे हैं।

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

ज़िन्दगी की सबसे खुबसूरत गजल है यह ..बहुत आगे हर होंसले से हर मीटर हर ऊंचाई को नाप लेंगे यह ..नामा बहुत प्यारे लगे

डॉ .अनुराग ने कहा…

दोनों को काला टीका लगा दे .फिर मीटर में हो जायेगे ...

रंजना ने कहा…

वाह !

जितना सुन्दर नाम,उतने ही प्यारे बच्चे...नजर न लगे....इन्हें मेरा बहुत बहुत स्नेह और आशीर्वाद... !

गौतम राजरिशी ने कहा…

अरे प्रकाश साब आप अपना सबसे खूबसूरत मतला तो अभी तक छुपाये हुए थे....सुभानल्लाह।
चचाग़ालिब होते तो इनपर अपना संपूर्ण दीवान निछावर कर देतें....
संभव और वैभव को ढ़ेर सारा प्यार और उन्हें हम सब से मिलवाने के लिये उनके पापा को सलाम

आपकी नयी तस्वीर खूब फब रही है। और ये नीच वाला जुमला हटा ही दीजिये, क्योंकि तमाम बहरो-वजन-मीटर में है संभव और वैभव के पापा की सूरत....इस निखरती हँसी पे कौन बेवकूफ़ मीटर नापने की हिमाकत करेगा????

MUFLIS ने कहा…

parkash bhai, namaskaar !
ek khoobsurat aur mukammel ghazal ki tarjumaani karte hue ye do pyare-pyare misre...
Sambhav aur Vaibhav
bachche hmesha hi Bhagwaan ki surat hote haiN...aur in dono bachchoN ka roop bhi utna hi sundar hai jitni k Bhagwaan ki bnaai hui usski qudrat.
mera inn dono ko bharpoor aashirwaad...aur aap sb parivaar waalo ko pranaam.
aur aapki ghzaleiN to maiN hamesha mn se pasand karta hooN.
---MUFLIS---

dwij ने कहा…

भाई वाह-वाह
मिसरे पे मिसरा !

खूबसूरत मुकम्मिल ग़ज़ल
.

भाई यह तो कमाल ही है.
बधाई.

Amit K Sagar ने कहा…

YE DONON SONDE TO BAAT BHI MEETER MEIN KARTE HAIN BHAI!

AAP KYAA BAAT KAR RHE HO?
KYAA UNHEN PATAA HAI;;;UN PAR MEETER CHLAA RAKHAA HAI :D
---
LUV U BRO

manu ने कहा…

आपके अब तक के ,,
मत्लों में सबसे खूबसूरत,,,,,
इश्वर इन्हें सदा ही खुश रखे,,,,जियो भतीजो,,,,,
आपसे तो बहुत ज्यादा मीटर में हैं जी,,,,,
इतने तो आप कभी ना हो पायेंगे,,,,,

amar barwal 'Pathik' ने कहा…

बादल जी। आपकी गज़ल के दोनों मिसरे पूरी तरह मीटर में हैं और एक हो कर भी मुख्त्तलिफ हैं पहला संजीदगी लिये है तो दूसरा शोखी औढे है.रदीफ और काफिया भी सही है मुबारक हो....

Krishna Patel ने कहा…

aapke bate bahut payare hai.

aap ghazal bhi bahut achchhi hai.

Abhishek Mishra ने कहा…

In bacchon ko meri shubhkaamnayein. Aaj post mein aaye hain kal Blog lekar aayein. Badhai.

आशुतोष दुबे "सादिक" ने कहा…

ये दोनों तो मीटर में ही लगते हैं......

अमित ने कहा…

भाई बादल जी,
आप के ब्लॉग पर आया अच्छा लगा। जहाँ तक मीटर की बात है मित्र तो बुरा मत मानियेगा कि जब मीटर से परहेज है तो तुकान्त ही क्यों और रचनाधर्मिता प्रबल है तो ग़ज़ल विधा ही क्यों। महाप्राण निराला ने भी ग़ज़लें लिखी हैं और मुक्त छन्द के प्रणेता उस महान आत्मा ने उसमें मीटर का भलीभाँति पालन किया है। आप के कथ्य इतने सुन्दर हैं, शब्द भी सुरिचिपूर्ण हैं केवल अधिक लिखने की शीघ्रता संभवतः आपको मीटर तोड़ने के लिये बाध्य करती है। आपके कई शेरों में मैने पाया के उनमे प्रयुक्त शब्दों का क्रम परिवर्तन कर दिया जाय तो रचना मीटर में हो जायेगी और अर्थ भी परिवर्तित नहीं होगा।
शेष आपकी इच्छा।
आप समर्थ रचनाकार हैं।
मेरी शुभकामनायें।
सादर
अमित

राजेंद्र मालवीय ने कहा…

प्रकाश बादलजी
आप की रचनाएँ अच्छी लगी.

Harkirat Haqeer ने कहा…

वाह वाह ....प्रकाश जी आप ये वाली ग़ज़ल तो छिपाए बैठे थे हमसे ...? वाह क्या शेर हैं......एक से बढ़ कर एक ....तेरा नाम करेंगे र्पुसन जग में तेरे राज दुलारे .....!!

अनुपम अग्रवाल ने कहा…

दिल और दिमाग के भी मीटर हो सकते हैँ क्या?
ये वो गज़ल है जो शब्दोँ से ना हो सकती बयाँ...


क्या रदीफ क्या काफिया ,सब तो छोटा कर डाला ,
सम्भव वैभव कर दे ,वैभव सम्भव करे उजाला,

ARVI'nd ने कहा…

etne dino se kahan chhupa rakhha ta inko.
bahut pyara hai prakhash bhaiya.
khuda in dono ki jodi salaamat rakhe.

mera paper chal raha hai jis kaaran mai kuchh dino se aapko nahi padh paa raha tha.

Aarjav ने कहा…

प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद ! संभव व् वैभव के साथ साथ आपकी भी फोटो बहुत ही सुन्दर लग रही है ! सौन्दर्य भी यदि व्यवस्था के कुचक्र में फसे तो फिर उसका मतलब ही क्या रह जाता है !

"मुकुल:प्रस्तोता:बावरे फकीरा " ने कहा…

नेह के अब तार जुड़ना संभव है
इक सहज निश्चिंतटा वैभव है

प्रकाश बादल ने कहा…

वाह मुकुल भाई आपकी टिप्पणी बहुत ही प्रेरक और बच्चों को विशेष अशीष देती है इस स्नेह के लिए आपका आभार।

रफ़्तार Related Posts with Thumbnails
Bookmark and Share