बुधवार, 21 जनवरी 2009

चिकने चेहरे इतने भी........

चिकने चेहरे इतने भी सरल नहीं होते।
ये वो मसले हैं जो आसानी से हल नहीं होते।

कुछ ही पलों की चमक और खुशबू इनकी,
ये फूल किसी का कभी संबल नहीं होते।

भूखों में बाँट दीजिए जो बचा रखा है,
जीवन के हिस्से में कभी कल नहीं होते।

शायर वो क्या, क्या उनकी शायरी,
जो ख़ुद झूमती हुई ग़ज़ल नहीं होते।

कोख़ माँ की किसी को न जब तलक मिले,
बीज कैसे भी हों, फ़सल नहीं होते।

विवशताओं ने पागल कर दिया होगा,
ख़्याल बचपने से कभी चँबल नहीं होते।

जम गई होगी वक्त की धूल वरना,
आईने की प्रकृति में छल नहीं होते।

(दिल्ली में मेरा एक छोटा भाई रहता है "
अमित के साग़र "ये ग़ज़ल उसी को समर्पित है।)

38 टिप्‍पणियां:

अनिल कान्त : ने कहा…

बादल जी ... बहुत ही सुंदर और अच्छी रचना ... क्या बात है मज़ा आ गया

अनिल कान्त
www.anilkant.blogspot.com

विवेक सिंह ने कहा…

सुंदर भाव पूर्ण रचना ! बहुत खूब !

विनय ने कहा…

शायर वो क्या, क्या उनकी शायरी,
जो ख़ुद झूमती हुई ग़ज़ल नहीं होते।

वाह साहब!

---आपका हार्दिक स्वागत है
चाँद, बादल और शाम

हिमांशु ने कहा…

"जम गई होगी वक्त की धूल वरना,
आईने की प्रकृति में छल नहीं होते।"

सुन्दर पंक्तियां. अच्छी गजल.

"अर्श" ने कहा…

BAHOT BAHOT BADHAI AAPKO SAHAB... BEHATARIN GAZAL KE LIYE ...


ARSH

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सही लिखा है आप ने , सुंदर गजल के लिये धन्यवाद

रंजन राजन ने कहा…

चिकने चेहरे इतने भी सरल नहीं होते।
ये वो मसले हैं जो आसानी से हल नहीं होते।

वाह साहब! बहुत ही ज़बरदस्त...
गज़ल में ईमानदारी और अपनापन है....बधाई।

गौतम राजरिशी ने कहा…

क्या बात है प्रकाश जी...भई क्या बात है
"शायर वो क्या, क्या उनकी शायरी/जो ख़ुद झूमती हुई ग़ज़ल नहीं होते" और "कोख़ माँ की किसी को न जब तलक मिले/बीज कैसे भी हों, फ़सल नहीं होते" और "जम गई होगी वक्त की धूल वरना/आईने की प्रकृति में छल नहीं होते"- लाजवाब शेर...बिछ गये हम तो
अमित को ढ़ेर सारा प्यार

Rohit Pandit ने कहा…

uncle your blog is so good as like you and your gazals are so meaningful....................................salam aap ko.

आदर्श राठौर ने कहा…

वाह प्रभु !
क्या लिखते हैं आप,
एक एक पंक्ति बोलती है

आशुतोष दुबे "सादिक" ने कहा…

aapne bahut hi acchi aur vaawpurn gazal likhi hai

Amit K Sagar ने कहा…

"बड़े भाई" के ब्लॉग पर सभी टिप्पडीकारों का मैं तहे-दिल से आभार व्यक्त करता हूँ.
लव यू आल ऑफ़ यू & लव यू बड़े भाई.
---
आदरणीय गौतम जी' प्रणाम.
---
ग़ज़ल के बारे में क्या कहूँ
बस मन करता है-
हर ग़ज़ल को साथ लिए फिरूँ
---
वाह! क़यामत तक!
---
अमित के सागर

ARVI'nd ने कहा…

इस ग़ज़ल की तारीफ़ कैसे करू मुझे कोई उपयुक्त शब्द ही नही मिल रहा ,,,,,,,,,,,
आप का हर एक ग़ज़ल सोचने को मजबूर करता है और हर बार कुछ अच्छी सोच को जागृत करने में सफल होता है

दिगम्बर नासवा ने कहा…

विवशताओं ने पागल कर दिया होगा,
ख़्याल बचपने से कभी चँबल नहीं होते।

प्रकाश जी
बहुत ही खूबसूरत है ये ग़ज़ल, जब इसको मैंने हिन्दी-युग्म पर पढा था अब भी मुझे ये शेर बहुत पसंद आया था. जहाँ तक आपके मीटर का सवाल है, मैं इसे यूँ समझता हूँ की "व्यवस्था से विद्रोह करने वाला ही कुछ कर सकता है, यह हर किसी के बस की बात नही, जो धारा के विरूद्ध चलता है वो ही अपनी राह बनाता है"

मुसाफिर जाट ने कहा…

बादल जी
अभी शिमला के ब्लोगरों को खोज रहा था. तो आप मिल गए. बस, केवल एक ही हिंदी ब्लोगर!!!
भाई, आपकी गजल के बारे में कुछ नहीं कहूँगा, मतलब फिर कभी कहूँगा. ये बताओ कि आप शिमला में ही रहते हो या कहीं और? आखिर मै मुसाफिरी से मजबूर हूँ.

शारदा अरोरा ने कहा…

यथार्त से परिचय कराती लयबद्ध रचना , धन्यवाद

Krishna Patel ने कहा…

bahut achchha likha apne.

श्रद्धा जैन ने कहा…

bhaut hi ghare suljhe hue khyaal ko samete hue gazal
bhaut achha laga padhna
kaash kar last sher
aaine ki parkti main chhal nahi hote

Puneet Sahalot ने कहा…

prakash bhaiya... bahut khoob... :)
"विवशताओं ने पागल कर दिया होगा,

ख़्याल बचपने से कभी चँबल नहीं होते।


जम गई होगी वक्त की धूल वरना,

आईने की प्रकृति में छल नहीं होते।"

आकांक्षा~Akanksha ने कहा…

इस गणतंत्र दिवस पर यह हार्दिक शुभकामना और विश्वास कि आपकी सृजनधर्मिता यूँ ही नित आगे बढती रहे. इस पर्व पर "शब्द शिखर'' पर मेरे आलेख "लोक चेतना में स्वाधीनता की लय'' का अवलोकन करें और यदि पसंद आये तो दो शब्दों की अपेक्षा.....!!!

manu ने कहा…

अरे वाह ...!! ये तो वही है जो हिंद युग्म पर पढ़ी थी...........
यहाँ तिरंगे की छत्रछाया में और भी लुभावनी लग रही है...
मजा आ गया...........
आपको भी गणतंत्र दिवस की मुबारकबाद...............

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

भई वाह बादल जी आपका अपना ही अंदाज़ है बधाई स्वीकारें...

Udan Tashtari ने कहा…

चिकने चेहरे इतने भी सरल नहीं होते।
ये वो मसले हैं जो आसानी से हल नहीं होते।

--बस, इतनी ही पूरी है. पूर्ण सक्षम, किसी भी पूरी गज़ल के सामने.

कमाल कर दिया आपने. मेरा दुर्भाग्य जो इन ५ दिनों इस पर नजर न गई.

आपको एवं आपके परिवार को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐं एवं बधाई.

लिखते रहें, मेरी शुभकामनाऐं सदैव आपके साथ हैं. विलम्ब से आने के लिए क्षमाप्रार्थी.

आशुतोष दुबे "सादिक" ने कहा…

आपका लेखन प्रभावी लगा

आशुतोष दुबे "सादिक" ने कहा…

आपको एवं आपके परिवार को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐं एवं बधाई.

ARVI'nd ने कहा…

prakash bhai, gannatantra divas ki shubhkamnaye.

Anurag ने कहा…

Gazab dhati hain aapki ghazalen. Aaz pahli baar aapka blog padha. Mazaa aa gaya. Aisi hi dhardaar ghazalen ikhte rahiye.------ ANURAG

Puneet Sahalot ने कहा…

bhaiya, namaste..!!

aapne mera blog padha muje is baat ki khushi hai. or isse bhi zyada khushi hai ki aapne mera margdarshan kiya. maine kavitakosh.org dekhi hai. yeh dekhkar kaafi achha laga ki aap or vinay bhaiya hindi sahitya ko sabhi k liye uplabdh karwane me poorn sahyog kar rhe hain. abhi mere exams hain isliye waha kuchh padh nahi paya. jaise hi exams khatm hote hain, main kavitakosh ko aaram se padhunga. site kaafi achhi lagi.
Mere followers me aapko dekh kar kuchh behtar likhne ki prerna mil rahi h. koshish karunga ki dheere dheere apni lekhni me kuchh nikhaar laaun.
ek baar fir se aapka hardik dhanyawad... :)

Puneet Sahalot

बेनामी ने कहा…

क्‍या खूब कहा है-
कोख़ माँ की किसी को न जब तलक मिले,

बीज कैसे भी हों, फ़सल नहीं होते।

मीटर तो भैया आप जाने लेकिन दिल को छू गई आपकी गजल।

Puneet Sahalot ने कहा…

bhaiya jaisa aapne kaha hai.. main zarur padhunga. bas ek baar exams khatm ho jaye fir padhna shuru kar dunga. :)

Puneet Sahalot

Harkirat Haqeer ने कहा…

जम गई होगी वक्त की धूल वरना,

आईने की प्रकृति में छल नहीं होते।

chma chahti hun der hui...aayi to pehle bhi thi pr comt kaise chut gya pta nahin.....pta nahin aayine ne ki prakirti kaisi hoti hai apna to aayina hi tukde tukde hai...bharhaal bhot acchi gazal....!

Harkirat Haqeer ने कहा…

जम गई होगी वक्त की धूल वरना,

आईने की प्रकृति में छल नहीं होते।

chma chahti hun der hui...aayi to pehle bhi thi pr comt kaise chut gya pta nahin.....pta nahin aayine ne ki prakirti kaisi hoti hai apna to aayina hi tukde tukde hai...bharhaal bhot acchi gazal....!

saloni ने कहा…

aapki sabhi ghazalelajwaab hai.

Darpan Sah ने कहा…

YE TIPPNAI KEWAL ISI POST KE LIYE NAHI HAI....
JAB MAIN AAPKE BLOG MEIN AAYA TO PEHALI GHAZAL NE ITNA PRABHAVIT KIYA KI SAB KE SAB PAD DALI.
KAUNSI GHAZAL KA KAUNSA CHAND BADIYA HAI KEHNA HI NAHI BAN PADTA APPKA AUR MUFLIS JI KA BLOG MUJHE AISA LAGA KI ....
KAASH 1 AUR RACHAN HOTI....
KAASH 1 AUR RACHNA HOTI....
(SAMAJH NAHI PAYA HOON KI JIS DIN BHOJAN SWADISHT BANTA HAI US DIN KAM PAD JAATA HAI YA BHOJAN SWADISHT HOTA HAI ISLIYEA KAM PAD JATA HAI?)
VAKAYI EK SE BHADKAR EK LAZIZ RACHNA....
(GHAZAL NAHI KEH RAHA HOON KYUNKI AAP AUR MEIN DONO METER KA KHYAL NAHI RAKHTE.)
AAP JAB BHI KOI NAI GHAZAL POST KAREIN....
TO MERA VAADA HAI KI PEHLI TIPPNAI MERI HOGI......
...NAHI KAHUNGA KI BADHAI SWIKAREEIN, NAHI KAHUNGA KI MERE BLOG MEIN AAYEAGA, NAHI KAHUNGA KUCH BHI AUR.
KYUNKI AAPKI YE TAARIF UNCONDITIONAL HAI....

SABHI PATHAKOON SE ANUROODH KARTA HOON KI JAB AAP KISI KE BLOG MEIN JAIYEN AUR APKO RACHNA PASAND AAIYE TO AUR RACHNAEIN BHI PADHEIN....
NAHI TO AAP KYA MISS KAREINGE....
YE BADAL JI KE BLOG SE PATA CHALTA HAI.....
BALKI HONA TO CHAHIYE KI SABI PURATAN RACHNA MEIN KAVI APNA SABSE ZAYADA MAN LAGATA HAI.
"AFTER ALL IT'S VIRGIN !!"
ITNA SAB KUCH LIKHNE KE LIYE KSHMA KARIYEGA.

......DHANVYAAD.......

chander ने कहा…

bahut achi gajal likhi hai apne...
ayene ki prakuti main kabhi chal nahi hote... main prakuti shabd kuch atpata sa laga.

आशुतोष दुबे "सादिक" ने कहा…

sir,maine apne blog ka address badal diya hai,aap is pate par aayiega:

http://hindisarita.blogspot.com

रंजना ने कहा…

भूखों में बाँट दीजिए जो बचा रखा है,

जीवन के हिस्से में कभी कल नहीं होते।

Waah ! Waah ! Waah !

Harek sher lajawaab ! Jitne sundar bhaav hain utni hi sundar abhivyakti bhi.Bahut bahut sundar.Badhai swikaren.

Shastri ने कहा…

अमित को बधाई कि उन को इस तरह के अग्रज मिले.

"भूखों में बाँट दीजिए जो बचा रखा है,
जीवन के हिस्से में कभी कल नहीं होते।"

क्या सशक्त अभिव्यक्ति है. दो पंक्ति में सब कुछ कह गए!!

सस्नेह -- शास्त्री

रफ़्तार Related Posts with Thumbnails
Bookmark and Share