मंगलवार, 16 दिसंबर 2008

पैमाना न दरमियान रख....

 पैमाना न दरमियान रख।

 मेरे ख़्यालों में उड़ान रख।


दिल से दिल का फासला न हो,

 इस सलीके से गीता और कुरान रख।


बहुत हुई महलों की फिक्र, छोड़ दे,

बेघरों के हिस्से में अब मकान रख।


बस्तियां रौंद लेगी ये नदी रोकी हुई,

ज़रूरत से ज़्यादा न तू अपना विज्ञान रख।


अश्ललीलता को जो तालीम मान बैठै हैं,

उन बच्चों के ज़हन में बड़ों को सम्मान रख।


तिलमिला उठा वो मेरी इस गुज़ारिश पर,

कि मेरे होठों पर भी थोड़ी मुस्कान रख।

18 टिप्‍पणियां:

मोहन वशिष्‍ठ ने कहा…

प्रकाश जी बहुत अच्‍छी गजल लिखी है आपने
अच्‍छी रचना बधाई हो

गौतम राजरिशी ने कहा…

अच्छे भाव का अच्छा शब्द-संयोजन है प्रकाश जी लेकिन चुंकि आप अपने ब्लौग की भूमिका में ही घोषणा कर देते हैं कि "मीटर में रहना अर्थ की हत्या करना लगता है"...तो फिर कुछ और कहना गज़ल की रोप-रेखा पर-बेमाने हो जाता है..

अच्छे सुंदर भावों को इतने ही सुंदर शब्दों में सजाने पर बधाई

दिगम्बर नासवा ने कहा…

प्रकाश जी
सुंदर ग़ज़ल है, भावों की सुंदर अभिव्यक्ति है

Amit K. Sagar ने कहा…

waah! jaaree rhen!
--
pahlee pankit mein sudhaar kee guinjaaiyash!
---

"अर्श" ने कहा…

बहोत ही खुबसूरत लिखा है आपने बेहद उम्दा ... ढेरो बधाई स्वीकारें....


अर्श

अशोक मधुप ने कहा…

दिल से दिल का कोई फासला न हो,

कुछ इस सलीके से गीता और कुरान रख।
बहुत अच्छी गजल। बधाई

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत हुई महलों की फिक्र, छोड़ दे,

बेघरों के हिस्से में भी कोई मकान रख।

बहुत सुंदर कविता लिखी आप ने .
धन्यवाद

bhoothnath ने कहा…

saleeke se geeta aur kuraan kaa rakha jana ki...........!!adbhut bhaayi...!!

bhoothnath ने कहा…

prakaash ji aaj to saara page dekh gaya main aapke blog kaa...bas yahi kahana hai....ham logon kee gazlon ke bhaav beshak acche hote hain...magar sach to yah hai ki wo gazal to hoti hi nahin....!!

प्रकाश बादल ने कहा…

bhootnaath bhaaee,

jo ham likhte hain use aap jo koi naam denge main rakh loonga. aap ye to maante hain ki jo ham likhte hain usme bhav to hote hain? meetar se kahin ziyada bhav bade hote hain. koi gazal kahe na kahe kyaa fark padta hai. baharhaal aapako mera likhaa achhha laga aap kaa aabhaar.

anup sethi ने कहा…

apni rachnaaon ke saath-saath aap himachal ke rachnakaaron ko bhi blog ki dunia mein la rahe hain. yeh prashansa-yogya kaarya hai. dheere dheere blog ko gambhir vimarsh ka manch banaanaa hoga. aap isi tarah sakriya bane rahen. shubhkaamnaaon sahit

रंजना ने कहा…

दिल से दिल का कोई फासला न हो,

कुछ इस सलीके से गीता और कुरान रख।

Waah ! Bahut sahi kaha aapne.

Yatharthparak Sundar bhaav aur sundar abhivyakti.

प्रदीप मानोरिया ने कहा…

हर बार की तरह आपकी लेखनी ने जादू बिखेरा है

Pyaasa Sajal ने कहा…

bhaai saahab doosra sher bada achha ban gayaa hai..uska jadoo chad gayaa..
rahi ghazal ki baat...sach kahoon to mera maanna to ye hai ki iski androoni itni baato se hum anjaan hai ki pehle hi anjaane mein bahut saare chhot to hum le hi lete hai...tab meter mein rehne ki "koshish" badi basic maloom padti hai...ye mera nazariya hai :)

vyang mein meri pehli koshish ko yahaan padhe:

http://pyasasajal.blogspot.com/2008/12/blog-post_26.html

Dr.Parveen Chopra ने कहा…

बादल जी, बहुत अच्छे....वाह जी वाह. पढ़ कर मज़ा आ गया।

बेनामी ने कहा…

बहुत हुई महलों की फिक्र, छोड़ दे,

बेघरों के हिस्से में भी कोई मकान रख।


bahut khoob !!!

SWAPN ने कहा…

bahut khoob , bahut sunder bhav abhivyakti.swapn

seema gupta ने कहा…

चुपके से वो सन्नाटों में ज़हर घोल कर चले गये,

आप दे रहे हैं पहरे आवाज़ों के बीच।

" fantastic.....these lines are mind blowing.."

regards

रफ़्तार Related Posts with Thumbnails
Bookmark and Share